देखे- भारत के टॉप 5 मंदिर जिनकी अपनी एक अलग ही पहचान है।

स्वागत है, Article Padho के इस exploring सफर में-

दोस्तों, आज के article में हम बात करने वाले हैं ‘ भारत के टॉप 5 मंदिर जिनकी अपनी एक अलग ही पहचान है। यहाँ आने वाले लोगो में आकर्षण का कारण आस्था के अलावा ,कुदरत की खूबसूरती भी होती है। तो आइये जानते हैं कि इस सुची में कौन कौन से मंदिर शामिल हैं –

 

नंबर – 1 वैष्णो देवी मंदिर,जम्मू

 

आप में से शायद ही कुछ लोग होंगे जिन्हें माता वैष्णो देवी के धाम और उनके यहाँ पहुँचने का मार्ग पता नहीं होगा, Well जिन्हें नहीं पता तो उनको यह जानकर बड़ी आश्चर्य होगी कि वैष्णो देवी का मंदिर जम्मू के पहाड़ कि सर्वोच्च चोटी पर, प्राकृतिक गुफा में स्थित है, जो कि ज़मीन से लगभग 5200 फीट ऊंचा है। इतना नहीं, यहाँ तक पहुँचने के लिए लोगों को कटरा से 12 किलोमिटर का मार्ग, पैदल तय करना होता है, पहले यह सरल नहीं होता था, जो कि पहाड़ो को काटकर बनाया गया था, लेकिन फिर भी श्रद्धालु माता के भक्तिमय भजनों को रटते हुए दर्शन करने से नहीं चूकते थे। अभी उन रास्तों पर अच्छी प्रबंधन हो गई है जिससे हर साल लाखों लोग माता के दर्शन को आते हैं और प्राकृतिक दृश्यों कि गोद में खुद को आनंदित महसूस करते है।

 

नंबर – 2 केदारनाथ धाम, उत्तराखंड

हिमालय पर्वत में बसा केदारनाथ धाम हिन्दू धर्म स्थलो में खास माइने रखता है, क्योंकि यहाँ स्वयं- शिव बसते हैं। साथ ही आपको बता दे कि केदारनाथ धाम का शिवलिंग बारह ज्योतिर्लिंगो में से एक है, जिससे यहां लोगों का आगमन भी बड़ी संख्या में होता है।

यहाँ का तापमान ठंडी के दिनों में -14 तक पहुँच जाता है, अतः अप्रैल से जून में यहाँ यात्रा करना अच्छा माना जाता है।

 

नंबर – 3 जगन्नाथ मन्दिर, पुरी

ओडिशा के तट पर स्थित यह मंदिर भगवान कृष्ण का साक्ष्य आज भी संजोए हुए है। ऐसी मान्यता है कि जब श्री कृष्ण का देहांत हुआ तब उनका सारा शरीर तो जल गया मगर किसी कारणवश उनका ह्रदय जल कर बुझ गया और और वह शेष रह गया , जिसे कुछ धर्म गुरुओ ने एक मूर्ति में स्थापित कर दिया जो कि सालों से आज भी जगन्नाथ पुरी के मंदिर में है।

यह मंदिर और भी खास इसकी कलाकृक्तियो से होता है, क्योंकि इसका निर्माण अत्यंत दुर्लभ प्राचीन शिल्प कलाओं से हुआ है। जिससे यह अति मनमोहक दिखता है।

 

नंबर – 4 साईं मंदिर , शिरडी

श्रद्धा और सबुरी के देव साईं बाबा के धाम का तो बात ही निराला है। यहाँ देश -विदेश से लोग बाबा के दर्शन को आते हैं। इस मंदिर कि खास बात यह है कि यह सबसे अधिक मनोकामना पूरक और मन में भक्ति भर देने वाला मंदिर है।

यहाँ आये दिन भक्तों का ताता लगा रहता है। बाबा का आशिर्वाद ही ऐसा चमत्कारिक है कि उनके भक्तों को कभी भी निराशा का सामना नहीं करना पड़ता ।

 

नंबर – 5 रामेश्वरम, तमिलनाडु

रामेश्वरम मंदिर , भारत के 7000 वर्ष प्राचीन घटनाक्रम का साक्ष्य आज भी प्रस्तुत किये है, दरअसल यह वही मंदिर है जिसके शिवलिंग को स्वयं प्रभु श्री राम ने अपने हाथो से बनाया था। जब वे रावण से युद्ध लड़ने के लिए समुद्र पार करने वाले थे तब उन्होंने ही अपने हाथो से शिवलिंग बनाकर स्थापना किया और फिर पूजा अर्चना करके प्रस्थान किया।

समुद्र तट पर स्थित यह मंदिर आज पर्यटकों को भारतीय देवी – देवताओ से अवगत कराता है।

 

 

Note : If you have any suggestion related to this post then kindly share with us at email below –mr.creative.individual@gmail.com

This Post Has One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.